Wednesday, December 11, 2013

मेरा वजूद

मेरी खाँसी
और तुम्हारा मुझे याद करना
कब धुएँ के हर कश के साथ
दोहरे होने लगे
जैसे तुम्हारे ख़तों का आना
उँगलियों में उँगलियों का होना
या हाथों में सिमट जाना हाथ
मेरा वजूद पिघल पिघल के
गंगा के पानी सा
सिर्फ हाथ में सिमटा...
जो तुम्हारी हथेली के नीचे
पर
सूंस सा पलटता - उफनता
मेरे वजूद को
अब बस खाँसी आने पर
पता चलता है कि
तुम्हारे याद करने में ही
बस कुछ बाकी है...

2 comments:

Niraj Mishra said...

Good One

Anonymous said...

heart touching.....certainly it tells about the time...its passing ,,leaving impact not only physically but spiritually ....and importantly about the person who are beyond time..they were there and remain there ....constantly within us no matter how they appear or behave....