Wednesday, December 11, 2013

जाना अगर

जाना अगर
दूर कभी मुझसे
वक़्त को इत्तेला किये जाना
मुझे कहीं न ले जाए
तुम्हारे लौट आने तक
थम जाए
मेरी उम्र ख़त्म होने तक

1 comment:

Anonymous said...

true .....
Mere Khuda Bas Itna Reham kar de,Dil ye mera tu Paththar kar de,Seh na Paunga main Us Bewafa ki Judai,Uske Rukhsat se pehley mujhey Dafan Kar de..